मंगलवार, 13 अगस्त 2019

भारत की सुषमा

भाव भिनि श्रद्धाजंलि 


सुषमा स्वराज (पूर्व-विदेश मंत्री)


कल रात भयपूर्ण खबर मिली,
आँखे मेरी गमगीन हुई,
राजनीति की सुदृढ़ पुत्री, 
गहरी निद्रा में लीन हुई।

लोकतंत्र के आधार सी कहानी थी,
जन सेवा को आतुर,
वो लक्ष्मीबाई सी दृढ़ और संभल,
तेजपूरित और महाज्ञानी थी।

संविधान की ज्ञाता औऱ 
एक महान उपासक थी,
कूटनीति में माहिर, और 
लोकतंत्र की आराध्या थी।

शुरुआत की उस दौर से,
जहाँ राजनीति अपराधों का गढ़ थी,
करती थी प्रयास रोज और
वो बड़ी साहसी और निश्चयी दृढ़ थी।

अब कौन इस पीढ़ी को सींचेगा,
और कौन ऊँच-नीच को मिटाएगा,
कौन करेगा जय घोष संसद में,
कौन अब भेदभाव मिटाएगा।

करता हूँ मै प्रार्थना प्रभू से,
उस आत्मा को शांति देना,
देना उसको फिर कोई अमिट पृष्ठभूमि,
और अपने श्री चरणों मे जगह देना।

टिप्पणी- मेरी यह रचना आदरणीया सुषमा जी को समर्पित है, जो एक महान राजनीतिज्ञ और प्रबल व्यक्तित्व की धनी थी। 
- आनन्द





12 टिप्‍पणियां:

Unknown ने कहा…

Nice creation

Suresh yadav ने कहा…

Nice

Anshuman Singh ने कहा…

Nice words and such a great lady # Sushma Ji

Unknown ने कहा…

बहुत ही खूबसूरत रचना

Y k ने कहा…

Bhut hi accha likha h bhai

संजय भास्‍कर ने कहा…

महान नेता और सौम्य एवं शक्तिमय व्‍यक्तित्‍व की स्‍वामिनी सुषमा जी को भावभीनी श्रद्धांजलि

शिवम् मिश्रा ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 09/08/2019 की बुलेटिन, "काकोरी कांड के सभी जांबाज क्रांतिकारियों को नमन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

आनन्द शेखावत ने कहा…

जी, शिवम दा ब्लॉग बुलेटिन टीम और आपका बहुत आभार।

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

सादर नमन !

आनन्द शेखावत ने कहा…

आभार, गगन दा।

मन की वीणा ने कहा…

भाव भरी श्रृद्धांजलि।
नमन सहित श्रृद्धा सुमन।

~Sudha Singh vyaghr~ ने कहा…

सुषमा जी शत शत नमन. 🙏 ईश्वर उनकी आत्मा को शान्ति प्रदान करे. 🙏 🙏 🙏

लोकप्रिय पोस्ट

बेइंतेहा

                                 बेइंतेहा              (प्रकाशित- काव्य प्रभा, सांझा काव्य संग्रह) इश्क़ मेरा मुकम्मल हो ना हो पर या...

पिछले पोस्ट