शुक्रवार, 22 मार्च 2019

तभी तो फौजी कहलाता हूँ।

                तभी तो फौजी कहलाता हुँ।

           (उपलब्धि- अक्षय-गौरव पत्रिका में प्रकाशित)


सुबह 4 बजे उठकर दिनचर्या में ढल जाता हूँ,
यारों तभी तो मै फौजी कहलाता हूँ।।

होती है छुट्टी चंद दिनों की,उसमे सदियों जी जाता हुँ,
और 5 साल की बेटी को चॉकलेट देकर बहलाता हुँ।
करके वादा माँ बाप से सुबह जल्दी घर से निकल आता हुँ,
यारों तभी तो मैं फौजी कहलाता हुँ ।।

अब तो सीमा पर ही होता है मेरा साँझ सवेरा,
औऱ बंकर ही लगता है मुझे घर मेरा,
यूं तो सीमा पर कहने को सब मेरे भाई हैं,
लेकिन सामने वाले बड़े क्रूर औऱ आततायी है,
लगी चोट को मै अब खुद ही सहलाता हुँ,
यारों तभी तो मैं फौजी कहलाता हुँ।।

कुछ लोग जो फौज को इतना गंदा कहते हो,
कयूँ भारत माँ के रखवालो पर इल्ज़ाम लगाते हो,
एक दिन तो डटकर देखो सीमा पर तुम,
देखे कितना तुम टिक पाते हो,
और ना हो तुमसे जब ये तो,
कयूँ सेना पर कालिख लगाते हो।
देश सेवा के एक आर्डर पे अब मैं चला आता हूँ,
यारों तभी तो शायद में फौजी कहलाता हूँ।।

जम्मू की सर्दी और राजस्थान की गर्मी को हंसते हंसते सह जाता हूँ,
वेतन मिलता है थोड़ा सा , लेकिन फिर भी मैं काम चलाता हूँ।
हर कॉल पे अगले महीने आने की, झूठी दिलासा दिलाता हूँ,
तुम्हें पता नही यारों, तभी तो मैं फौजी कहलाता हूँ।

केरला की बाढ़ हो या हो उत्तराखंड का भू-स्खलन
सबमे हँसते-हँसते शामिल हो जाता हूँ,
भारत माँ की रक्षा को आतुर, अब ना एक पल और गवाता हूँ
चारों ओर भाईचारे और अमन ,शांति के लिये
सबका साथ निभाता हूँ
तुम्हें पता नही यारों, तभी तो फौजी कहलाता हूँ।


       जय हिंद , जय भारत, जय माँ भारती।।।



                                        लेखन-आनन्द
                                       इंजीनियर की कलम से-
                                       
                                



19 टिप्‍पणियां:

Sandeep ने कहा…

Mast

Sandeep ने कहा…

जये हिंद

Subhash ने कहा…

Very nice

shrikant ने कहा…

Very nice... Keep writing..

Unknown ने कहा…

Nice bhai

आनन्द शेखावत ने कहा…

Thanks

Unknown ने कहा…

aree wahh banna 😄

आनन्द शेखावत ने कहा…

सब आपके साथ का कमाल है भाई जान

Unknown ने कहा…

superb

आनन्द शेखावत ने कहा…

Thanku

Unknown ने कहा…

Jay hind
Regards for writing

आनन्द शेखावत ने कहा…

Thanku sir

hansa kumari ने कहा…

Fantastic..... Jai hind

आनन्द शेखावत ने कहा…

Thanku hansa ji

Unknown ने कहा…

Hates off to u

Unknown ने कहा…

Nice

BHOMA RAM YADAV ने कहा…

Good job

Mak Choudhary ने कहा…

Tributes to jawans

Unknown ने कहा…

Jai hind

लोकप्रिय पोस्ट

बेइंतेहा

                                 बेइंतेहा              (प्रकाशित- काव्य प्रभा, सांझा काव्य संग्रह) इश्क़ मेरा मुकम्मल हो ना हो पर या...

पिछले पोस्ट