बुधवार, 15 अप्रैल 2020

कोरोना के असली योद्धा



कोरोना के असली योद्धा


Pic- fb 

देश मे फैला है एक संकट जिसका नाम है कोरोना,
सत्ता की बहस को छोड़ो मेरे यारों।
इसका तो चिरकाल से ही चला आ रहा, यूं ही रोना-धोना।

ध्यान करो जरा उन फरिश्तों का भी,
जिनके खुद के भी कुछ सपने है।
बेपरवाह होकर लगे है जनसेवा में,
उनके भी तो कई अपने है।

कहती होगी वो माँ भी अपने बेटे से,
कुछ दिन छुट्टी लेले अपने पेशे से।
अवज्ञा करके भी, वो आपकी सेवा में आता है,
बचाने को तुम्हे वह, खुद इस बला से लड़ जाता है।

मजबूरी तो  देखो ,अपने बच्चों को एक
आलिंगन भी न दे पाते है।
कैसी विपदा आन पड़ी है जो,
अपनो से न मिल पाते है।

ये वही योद्धा है जो आपकी सेवा में ,
एक पल भी न और गवांते है।
अब तो सुधरो तुम हे मानुस!
सोचो, क्यों इनकी मेहनत को भी हम जाया करते है।

मांगा ही क्या है इन लोगो ने तुमसे!
खाली रहना ही तो है अपने घर मे।
संकट है कट जाएगा एक दिन यह भी,
क्यों रहते हो खुद भी इस डर में।

है तुम्हारा भी कुछ कर्तव्य इस घड़ी में,
क्यों इनकी सेवा का अनुचित लाभ उठाते हो।
बन्द करो सब प्रपंच और मिलना- जुलना कुछ दिन,
क्यों इनको भी तुम बाधा पहुँचाते हो?

कुछ ऐसे भी है जिनको नींद नसीब नही ,
दिन और रातों में।
चौराहे पर लगती ड्यूटी,इस इस भीषण गर्मी,
और बारिश की छाटों में।

उनको कोई लाभ नही आपकी पिटाई में,
लगे हुए है वो तो केवल आप सबकी भलाई में।
न खाने की सुध है, न रहने का कोई ठिकाना,
लक्ष्य है इनका इस संकट को पार लगाना।

कहता है आनंद तुमसे ये, सुनो जरा तुम ध्यान से,
साथ इन्ही का दो तुम, पूरे तन-मन-धन और मान से।
माहौल बना दो कुछ ऐसा की, मिसाल बनो इस संसार मे,
मानव की सेवा मानव करे, गौरव रहे अपना सिर्फ इस प्यार में।

-आनन्द

अपील- सभी लोगों से मेरा विनम्र निवेदन है कि - पुलिस और मेडिकल कर्मचारियों का दिल से साथ दे और उन्हें मनोबल प्रदान करे इस संकट की घड़ी में ताकि वो इससे पार पा सके।
और कुछ नियम खुद भी बना ले।
1 ज्यादा से ज्यादा हाथ धोये।
2 अल्कोहल वाले सेनेटाइजर से हाथ साफ करें।
3 कम से कम घर से बाहर निकले।
4 अपने साथ के सभी लोगो का ध्यान रखे।
5 हो सके जितनी पुलिस और चिकित्सा विभाग की मदद करे।

जय हिंद, जय भारत।





4 टिप्‍पणियां:

Rohitas ghorela ने कहा…

बेहद बढ़िया रचना.
इनका साथ देना बेहद जरूरी है मानव समाज के अस्तित्व के लिए.
नयी रचना- एक भी दुकां नहीं थोड़े से कर्जे के लिए 

Unknown ने कहा…

Bhut shandar Bhai

मन की वीणा ने कहा…

सार्थक सृजन।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

यही एक मात्र उपाय है आज तो ..
सार्थक चिंतन ...

लोकप्रिय पोस्ट

बेइंतेहा

                                 बेइंतेहा              (प्रकाशित- काव्य प्रभा, सांझा काव्य संग्रह) इश्क़ मेरा मुकम्मल हो ना हो पर या...

पिछले पोस्ट